Breaking

Wednesday, March 1, 2017

Teri mohabbat me badnaam ho gye dard bewafa Shayari

Teri mohabbat me badnaam ho gye dard broken heart Shayari

सुकून मिल गया मुझको बदनाम होकर,
आपके हर इक इल्ज़ाम पे यूँ बेजुबान होकर...
लोग पढ़ ही लेंगें आपकी आँखों में मेरी मोहब्बत,

चाहे कर दो इनकार अंजान होकर...


No comments:

Post a Comment